रिश्ता वहीं,सोच नई 💕

रक्षाबंधन का वो पर्व जो भाई बहन के प्रेम का प्रतीक है।इस दिन हर बहन अपने भाई की कलाई पर राखी का धागा इस आशा और विश्वास के साथ बांधती है कि उसका भाई किसी भी परेशानी में और जीवन के हर मोड़ पर सहायता करेगा और हर भाई भी एक ज़िम्मेदार व्यक्ति होने के नाते अपनी हर बहन को यह वचन देता है और अपनी बहन से यह उम्मीद करता है की वह आपने जीवन के हर राज में उसे शामिल करेगी।लेकिन आज के दौर मे सामाजिक बुराइयां इतनी बढ़ गई हैं कि हर भाई और बहन परेशान है और इसके लिए हम ही ज़िम्मेदार हैं क्योंकि कभी – कभी समाज के डर से लड़कियां अपने भाइयों से बातें छिपाती हैं साथ ही कुछ भाई जो मान- सम्मान अपनी बहनों को देते है वह दूसरी लड़कियों को नहीं। अतः इस राखी मेरा यही निवेदन है कि हर भाई राखी बंधवाते समय उस बहन में देश की सभी बहेनों की छवि देखें और हर बहन अपने भाई में देश के सभी भाइयों की छवि देखें जिससे वह किसी भी समय अपने किसी भी भाई से सहायता मांग सके तो शायद ऐसा करके हम समाज में लड़कियों पर होने वाले अत्याचारों का डर समाप्त कर सकेगे और हर भाई भी अपनी बहन के लिए परेशान ना होगा क्योंकि रक्षाबंधन अर्थात रक्षासूत्र किसी एक को नहीं बल्कि सभी भाई- बहिनों को एक सूत्र में बांधने का पवित्र पर्व है।

4 thoughts on “रिश्ता वहीं,सोच नई 💕

  1. Right 👍🏻🌷….

    My brother is very good🤗, I think that I am so lucky 💚 that I have got such a good brother, who does a lot of respect not only to me but to every girl, always teaches me good things 👍🏻 and loves me very much……

    And not only my brother but my whole family is very good 😘🤗……

    And I would like everyone in the world to have a happy 😊 family.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create your website with WordPress.com
Get started
%d bloggers like this: