मै भी कोरोना वॉरियर # शिक्षक

“वक्त की रेत पर कुछ निशा रह जायेंगेकुछ राह गुजर चलते है चलते जायेंगे” कोरोना जैसी महामारी के समय देश के भविष्य अर्थात हमारे बच्चों को बचाने का काम देश के चिकित्सक बखूबी कर रहे हैं लेकिन उनको आगे बढ़ाने और पढ़ाने का काम तो हम शिक्षक ही कर रहे हैं वहीं शिक्षक जो देशContinue reading “मै भी कोरोना वॉरियर # शिक्षक”

पेश है मशहूर खमन ढोकला

ढोकला ,यह भारत में मशहूर रेसिपी है और गुजरात राज्य में नाश्ते में खाई जाती है। अगर आप भी ढोकला बना कर खाना चाहते हैं तो मै यहां आपको ढोकला बनाने की विधि बता रही हूं। इस विधि को पढ़ने के बाद किसी से यह नहीं पूछना पड़ेगा कि ढोकला रेसिपी कैसे बनाते हैं? ढोकलाContinue reading “पेश है मशहूर खमन ढोकला”

जीजा जी, मै आपके साथ हूं बस पास नही

बात लगभग कल रात एक बजे की है,जब सविता को पता चला की उसकी सबसे बड़ी ननद कोविड पॉजिटिव है , पता चलने के साथ ही परिवार में उदासी छा गई पर क्या था सविता ने सबको विश्वास दिलाया कि दीदी जल्द ही ठीक हो जाएगी और इसके सिवा सविता कहती भी तो क्या!जैसे तैसेContinue reading “जीजा जी, मै आपके साथ हूं बस पास नही”

जीजा जी , मै आपके साथ हूं बस पास नही

बात लगभग कल रात एक बजे की है,जब सविता को पता चला की उसकी सबसे बड़ी ननद कोविड पॉजिटिव है , पता चलने के साथ ही परिवार में उदासी छा गई पर क्या था सविता ने सबको विश्वास दिलाया कि दीदी जल्द ही ठीक हो जाएगी और इसके सिवा सविता कहती भी तो क्या!जैसे तैसेContinue reading “जीजा जी , मै आपके साथ हूं बस पास नही”

बेटियां किसी से कम नहीं…. बात उन दिनों की है जब नीरा स्कूल में पढ़ने जाया करती थी और नीरा को भी लड़कों की तरह स्पोर्ट्स शूज़ पहनना और उन्हें पहन कर रेस में दौड़ना बहुत पसंद था और वो एक धावक बनना चाहती थी। परंतु उसके पिता को यह सब बिल्कुल पसंद ना था जबकि उसकी मां हमेशा उसे प्रोत्साहित करती थी कुछ समय तक तो छुपते-छुपाते वह दौड़ती रही और मेडल जीतती रही परंतु जब उसके पिता को पता चला, तो उन्होंने उसके स्पोर्ट्स शूज फेंक दिए और कहा “यह सब लड़कियों के बस की बात नहीं है” किंतु एक दिन जब उसके पिता को अचानक अस्पताल में भर्ती कराया गया और पैसों की जरूरत हुई तब उसी बेटी ने अपने गोल्ड मेडल बेचकर पैसे जमा किए और अपने पिता की जान बचाई उस दिन उसके पिता को समझ में आया कि मेरी बेटी कितनी योग्य और काबिल है उसके बाद उन्होंने स्वयं अस्पताल से आने के बाद उसे स्पोर्ट्स शूज ला कर दिए और उसके लिए खेलने के लिए प्रोत्साहित किया।

Create your website with WordPress.com
Get started